Recruitment for Vacant Post in Korba: कोरबा जिले में विभिन्न शासकीय विभागों में खाली पड़े तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पदों पर अब जिले के स्थानीय निवासियों की ही नियुक्ति हो सकेगी। राजस्व मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल के प्रयासों से छत्तीसगढ़ शासन ने इस संबंध में लागू प्रावधानों में कोरबा जिले को भी शामिल कर लिया है। श्री अग्रवाल ने कोरबा जिले में अनुसूचित जनजाति वर्ग की लगभग 41 प्रतिशत और अनुसूचित जाति वर्ग की लगभग 11 प्रतिशत जनसंख्या तथा कोरबा जिले में भारतीय संविधान की पांचवीं अनुसूची के प्रावधानों का हवाला देकर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से इस संबंध में मांग की थी। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने राजस्व मंत्री की इस तथ्यपरख मांग पर निर्णय लेते हुए तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पदों पर कोरबा जिले में शासकीय नौकरियों में स्थानीय निवासियों की ही नियुक्ति को मंजुरी दे दी है।

Recruitment for Vacant Post in Korba

इस संबंध में स्थानीय लोगों को नौकरियों में प्राथमिकता देने के लिए राज्य सरकार ने अधिसूचना जारी कर दी है। ये अधिसूचना पहले से ही सरगुजा और बस्तर संभाग के लिए प्रभावी थी, लेकिन अब इसमें कोरबा जिले को भी शामिल कर दिया गया है। गजट नोटिफिकेशन में उल्लेखित होने के बाद अब बस्तर और सरगुजा संभाग के सभी जिलों व कोरबा जिलों में जितनी भी जिला संवर्ग में तृतीय और चतुर्थ वर्ग की रिक्तियां निकलेगी, उनमें सिर्फ और सिर्फ स्थानीय लोगों को ही मौका मिलेगा। सामान्य विभाग ने ऐसी अधिसूचना राजपत्र में भी जारी कर दी है।

Korba Employment News Chhattisgarh 2019

उल्लेखनीय है कि बस्तर तथा सरगुजा संभाग के अंतर्गत आने वाले जिलों में तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पदों पर भर्ती के लिए स्थानीय निवासियों को ही नियुक्त करने का आदेश पहले 17 जनवरी 2012 को जारी किया गया था, जो दो साल 16 जनवरी 2014 तक प्रभावी रहा। लेकिन तब ये सिर्फ सरगुजा और बस्तर जिले के लिए ही लागू था। लेकिन अब प्रदेश की नई सरकार ने इसमें कोरबा कोरबा को भी शामिल कर लिया है। वर्ष 2014 में अधिसूचना की मियाद खत्म होने के बाद 19 मई को एक और अधिसूचना जारी कर उसे 1 साल के लिए और बढ़ाया गया था। आखिरी बार 17 जनवरी 2017 से 31 दिसंबर 2018 तक के लिए बढ़ाया गया था।
अब यह नयी अधिसूचना 3 साल के लिए लागू की गयी है। 1 जनवरी 2019 से लेकर अब तक ये अधिसूचना 31 दिसंबर 2021तक लागू रहेगी और दो संभाग और कोरबा जिले में तृतीय और और चतुर्थ श्रेणी की नौकरी में सिर्फ और सिर्फ स्थानीय लोगों को ही पात्र माना जायेगा।

Add Comment

Leave a Comment